हिंदी न्यूज़ – तीन साल से टीम से किया जा रहा था अंदर बाहर, अब जगह मिली तो बना 7 कप्तानों का सिरदर्द

0
22


तीन साल से टीम से किया जा रहा था अंदर बाहर, अब जगह मिली तो बना 7 कप्तानों का सिरदर्द

विलियमसन को साल 2015 में सनराइजर्स हैदराबाद ने महज 60 लाख रुपये में खरीदा था. आप कीमत से समझ गए होंगे कि हैदराबाद ने विलियमसन को कुछ खास उत्साह के साथ नहीं खरीदा था.

Devbrat Bajpai

Devbrat Bajpai

Updated: May 16, 2018, 8:42 AM IST

इंडियन प्रीमियर लीग साल 2008 से खेला जा रहा है. इस टूर्नामेंट को शुरू करने का मकसद भारतीयों युवा खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय एक्सपोजर देना है. इसीलिए हर आईपीएल टीम की प्लेइंग इलेवन में अधिकतम 4 विदेशी खिलाड़ियों को शामिल करने की इजाजत है. इस नियम की वजह से कई बेहतरीन विदेशी खिलाड़ी अपनी टीम की प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं बना पाते और उन्हें पूरे टूर्नामेंट में इक्का-दुक्का मैच ही खेलने को मिलते हैं. इसी समीकरण का शिकार इस सीजन के पहले तक सनराइजर्स हैदराबाद के मौजूदा कप्तान केन विलियमसन हो रहे थे. गनीमत रही कि उन्हें मौजूदा सीजन में डेविड वॉर्नर की गैरमौजूदगी में कप्तान बनाया गया और वह टीम के नियमित खिलाड़ी भी बन गए.

नहीं मिलती थी टीम में जगह:

विलियमसन को साल 2015 में सनराइजर्स हैदराबाद ने महज 60 लाख रुपये में खरीदा था. आप कीमत से समझ गए होंगे कि हैदराबाद ने विलियमसन को कुछ खास उत्साह के साथ नहीं खरीदा था. इसका असर आईपीएल सीजन 2015 में देखने को भी मिला और उन्हें पूरे टूर्नामेंट में सिर्फ 2 मैच खेलने को मिले. इन दो मैचों में विलियमसन ने एक बार नाबाद रहते हुए कुल 31 रन बनाए.साल 2016 में विलियमसन के मैचों में बढ़ोतरी की गई लेकिन यह बढ़ोतरी उतनी नहीं थी कि वह बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश कर पाते और उन्होंने पूरे सीजन में 6 मैच खेले. इन 6 मैचों में उन्होंने एक अर्धशतक लगाने के साथ कुल 124 रन बनाए. लेकिन इस अर्धशतक के बावजूद भी कप्तान वॉर्नर को उनपर उतना भरोसा नहीं हुआ. वैसे इसका कारण यह भी था कि उन्हें किस चौथे विदेशी खिलाड़ी की जगह टीम में लिया जाए. जाहिर है कि साल 2016 में शानदार प्रदर्शन कर रही सनराइजरस कोई चांस नहीं ले सकती थी. इस तरह से यह सीजन भी बीत गया और आधे से ज्यादा मैचों में विलियमसन बेंच पर ही बैठे दिखाई दिए.

साल 2017 आया और कहानी फिर वही रही. विलियमसन को फिर से बेंच पर बैठकर ही आधा सीजन गुजारना पड़ा, हां अंतर सिर्फ एक था कि पिछले साल के मुकाबल उनके एक मैच में बढ़ोतरी हो गई थी. इस साल उन्होंने 7 मैच खेले और 42.66 के औसत के साथ 256 रन ठोक डाले. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट भी हवा से बातें कर रहा था। उन्होंने 151.47 के स्ट्रइक रेट से रन बनाए. लेकिन सबसे दुखद बात रही कि उन्हें फिर भी 7 ही मैच खेलने को मिले. जाहिर है कि यह बेहतरीन खिलाड़ी पुरजोर कोशिश के बावजूद टीम में अपनी जगह बनाने में कामयाब नहीं हो रहा था लेकिन किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था.

कमजोर मानी जा रही टीम को बनाया सबसे खतरनाक टीम:

IPL live score, sunrisers hyderabad Vs kolkata knight riders live score, IPL srh vs kkr t20, live cricket score, आईपीएल लाइव स्कोर, हैदराबाद सनराइजर्स बनाम कोलकाता नाइट राइडर्स, लाइव क्रिकेट स्कोर, हैदराबाद सनराइजर्स वस कोलकाता नाइट राइडर्स, srh vs kkr live match score, sunrisers hyderabad Vs kolkata knight riders t20 Live Score

(Photo:IPLT20.com)

वॉर्नर के आईपीएल से बाहर होने के बाद SRH को सबसे कमजोर टीम के तौर पर आंका जा रहा था. लेकिन विलियमसन ने कप्तानी का बीड़ा उठाते ही सबकुछ बराबर कर दिया. विलियमसन की बेहतरीन कप्तानी का ही असर है कि मौजूदा आईपीएल में 18 अंकों के साथ SRH प्लेऑफ में पहुंचने वाली पहली टीम बन गई है. साथ ही विलियमसन अपनी टीम की ओर से इस सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं. विलियमसन ने अब तक 12 मैचों की 12 पारियों में 60.44 के बेहतरीन औसत के साथ 544 रन बनाए हैं. इस दौरान वह 7 अर्धशतक जमा चुके हैं जो मौजूदा सीजन में किसी भी बल्लेबाज की ओर से बनाए गए सबसे ज्यादा अर्धशतक हैं.

जाहिर है कि विलियमसन टीम को डेविड वॉर्नर की रत्तीभर कमी महसूस होने नहीं दे रहे हैं और एमएस धोनी समेत आईपीएल के 7 कप्तानों का सिरदर्द बन गए हैं. विलियमसन को उनके साथी खिलाड़ी एक बेहद शांत स्वभाव वाला कप्तान बताते हैं जो अपने खिलाड़ियों को हर पल प्रेरित करते रहते हैं. वहीं जिस तरह की रणनीति वह विपक्षी टीम के खिलाफ बनाते हैं वह अपने आपमें गजब है. उनकी टीम का लक्ष्य को बचाने में कोई मुकाबला नहीं है. जाहिर है कि वह अपनी कप्तानी में नया इतिहास लिखने को आए हैं.

IPL 2018, Kane Williamson, captain, Sun Risers Hyderabad, डेविड वॉ़र्नर, आईपीएल, केन विलियमसन, हैदराबाद, क्रिकेट, न्यूजीलैंड

साल 2018 आईपीएल के पहले की बॉल टेंपरिंग के चलते डेविड वॉर्नर आईपीएल से बाहर हो गए और विलियमसन नए कप्तान बने. विलियमसन ने कप्तान बनते ही टीम में नई ऊर्जा तो भरी ही बल्कि अपनी शानदार कप्तानी और बैटिंग से आईपीएल के दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया. शायद विलियमसन की फॉर्म का ही असर है कि आईपीएल मिड सीजन ट्रांसफर विंडो को लेकर विचार कर रहा है. इसके अंतर्गत दूसरी टीमें उन खिलाड़ियों को सीजन के बीच में ही अपनी टीम मं ट्रांसफर कर सकती हैं जिन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह न मिल रही हो. जाहिर है कि फिर विलियमसन जैसे खिलाड़ियों को अपनी बल्लेबाजी का जादू दिखाने के लिए 3 सालों का लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा.

IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Sports News in Hindi यहां देखें.



Source link

Facebook Comments
SHARE